बोरिया मजूमदार पर बैन की तैयारी: भास्कर के खुलासे के 2 महीने बाद BCCI एक्शन में आया, किसी भी स्टेडियम में एंट्री पर लग सकती है रोक



मुंबई5 घंटे पहले

BCCI ने क्रिकेट इतिहासकार, पत्रकार और बायोग्राफी राइटर बोरिया मजूमदार के खिलाफ 2 साल का बैन लगाने की तैयारी कर ली है। मजूमदार पर विकेटकीपर बल्लेबाज ऋद्धिमान साहा को इंटरव्यू के नाम पर धमकाने का आरोप है। सबसे पहले दैनिक भास्कर ने ही खुलासा किया था कि साहा प्रकरण में जिस पत्रकार का जिक्र हो रहा है, वह कोई और नहीं बल्कि बोरिया मजूमदार हैं।

स्टेडियम में एंट्री होगी बैन
बीसीसीआई के एक टॉप सूत्र ने इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत करते हुए बताया- हम देशभर की तमाम स्टेट यूनिट्स को सूचित करने जा रहे हैं कि बोरिया को किसी भी स्टेडियम में घुसने की इजाजत न दी जाए। घरेलू मुकाबलों में भी बोरिया को मीडिया एक्रीडेशन नहीं दिया जाएगा। मीडिया एक्रीडेशन न मिलने का अर्थ है कि मजूमदार अब टीम इंडिया की किसी भी प्रेस कॉन्फ्रेंस में शामिल नहीं हो पाएंगे। इसके अलावा सभी भारतीय खिलाड़ियों को भी विशेष तौर पर बोरिया मजूमदार से किसी किस्म की बातचीत न करने के लिए कहा जाएगा। बोर्ड इसके अलावा ICC से भी बोरिया की शिकायत करेगा और उन पर दुनियाभर में होने वाले ICC टूर्नामेंट से बैन लगाने को कहेगा।

साहा को धमकाने के मामले बोरिया मजूमदार का सामने आया था इस पर भास्कर ने सबसे पहले खुलासा किया था। पढ़िए पूरी खबर…

साहा ने इंडियन क्रिकेट में अपने योगदान के बदले हुए दुर्व्यवहार पर जताया था गुस्सा
यह मामला तब सामने आया था, जब इस साल 19 फरवरी को गुजरात टाइटंस के विकेटकीपर बल्लेबाज ऋद्धिमान साहा ने एक स्क्रीनशॉट शेयर करते हुए लिखा था कि भारतीय क्रिकेट में इतना योगदान देने के बाद मुझे एक तथाकथित रिस्पेक्टेड पत्रकार से ये सब झेलना पड़ रहा है। हमारे देश में पत्रकारिता कितने न्यूनतम स्तर पर पहुंच गई है। साहा ने इस दौरान मजूमदार के स्क्रीन शॉट्स शेयर किए थे।

उनमें लिखा था, ‘तुमने मुझे कॉल नहीं किया। मैं दोबारा कभी तुम्हारा इंटरव्यू नहीं करूंगा। मैं अपमान का घूंट आसानी से नहीं पीता। मैं इस चीज को हमेशा याद रखूंगा।’ टीम इंडिया के पूर्व कोच रवि शास्त्री समेत कई एक्स प्लेयर्स ने बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली से मामले का संज्ञान लेने की अपील की थी।

सोशल मीडिया के जरिए मामला सामने आने के बाद बीसीसीआई ने उपाध्यक्ष राजीव शुक्ला, ट्रेजरर अरुण धूमल और एपेक्स काउंसिल मेंबर प्रभतेज भाटिया के रूप में 3 सदस्यीय जांच समिति का गठन किया था।

कमेटी के सामने आकर साहा ने मजूमदार को पहचाना और धमकाने के आरोप लगाए। हालांकि अपने बचाव में मजूमदार ने कहा था कि स्क्रीन शॉट्स के साथ छेड़छाड़ की गई है।

खबरें और भी हैं…

.



Source link

%d bloggers like this: